महेशवाणी

महेशवाणी अपनी बरात शीव साजीलियोरे, हिमाचल नगरीया हाराके काडा, करैत के मौरी, सर्पके माला बनालियोरे हिमाचल नगरीया अपनी बरात शीव साजीलियोरे, हिमाचल नगरीया जब शीव साजात अपनी बरतीया, भुत यो प्रेत संग साथ लियोरे हिमाचल नगरीया अपनी बरात शीव साजीलियोरे, हिमाचल नगरीया परीछन चल्ली सासु मनाईन, नाग बेचारा फुफुकार, दीओरे हिमाचल नगरीया अपनी बरात शीव […]

महेशवाणी

                         महेशवाणी अपनी बरात शीव साजीलियोरे, हिमाचल नगरीया हाराके काडा, करैत के मौरी, सर्पके माला बनालियोरे हिमाचल नगरीया अपनी बरात शीव साजीलियोरे, हिमाचल नगरीया जब शीव साजात अपनी बरतीया, भुत यो प्रेत संग साथ लियोरे हिमाचल नगरीया अपनी बरात शीव साजीलियोरे, हिमाचल नगरीया परीछन […]

महेशवाणी
महेशवाणी
June 30, 2013

अहि ठाम छलै  राम, भँगियाके झोरिया, से हो लेल गौरी चोराई गे माई एतबा बचन जब सुनलनी गौरी , रुसी नैहर चली गेल गे माई  । ।   आहे माई, पर हे परोसिन गौरी के दिय सम्झाई गे माई हम नही लौटब भोला मुँह देखब, मरब जहर बिख खाई गे माई  । ।   कथि […]

महेशवाणी
महेशवाणी
June 16, 2013

हमरो गौरी छ्ती बड सह लोलि कोनाक पिस थिन भाँगक गोलि, हातोमे परिगेलैन लोढाके ठेला कि मोर गौरी रहती कोना नहिरा मे खाथिन गौरी खोआ दुध, मिश्री ससुरा मे भाँग धतुर , कि गौरी मोर रहती कोना नहिरा मे पहिरथिन गौरी लहँगा औ सारि ससुरा मे मृगके छाला , कि गौरी मोर रहती कोना नहिरा मे ओढती गौरि, साला दोसाला ससुरा मे बाघक छाला,  कि गौरी मोर रहती कोना

महेशवाणी
महेशवाणी
June 16, 2013

बसहाँ चढल मतबलबा आगे माई शंकर जि दुलह्बा कौने हात डमरु शोभे कौने त्रीशुल धारि कहाँ  सँ  बहैछै गंगा के धरबा आगे माई शंकर जि दुलह्बा   बायाँ हाते डमरु शोभे दहिने त्रीशुल धारि जटबा सँ बहैछै गँगाके धरबा आगे माई शंकर जि दुलह्बा कहाँ बिभुत शोभे, कहाँ रुद्र माला कहाँ शोभै छै मृगके छाला आगे माई शंकर जि दुलह्बा अगँ बिभुत शोभे, गले रुद्र माला डाँरोमे शोभेला मृगके छाला आगे माई शंकर जि दुलह्बा बसहाँ  चढल मतबलबा …….

महेशवाणी
महेशवाणी
June 16, 2013

सभा पैसी जोही एक लएलनि, कएलनी लेलिन बुढबा जमाएगे माई । । बसहा चढल शिव डमरु बजाबथी, अगँ मे भस्म रमाये गे माई । । अगँने अगँने शिव भिख मगै छथि, देहरी पर धुनिया रमाये गे माई जटा देखी गौरी थर थर काँपथि, बिभुत देखी के डराई गे माई । । सौतीन देखी गौरी मनमन […]

महेशवाणी
महेशवाणी
June 15, 2013

  डमरु बजाक मन मोही लेलकै, गौरी के सजनमा दौरी दौरी गौरी आसनी आन गेली मृग के छाला ओछालेलकै, गौरी के सजनमा डमरु बजाक मन ………………. दौरी दौरी गौरी तेल आन गेली अँगोमे भस्म रमालेलकै, गौरी के सजनमा डमरु बजाक मन ………………. दौरी दौरी गौरी माखन आन गेली भाँगके गोला चिबालेलकै, गौरी के सजनमा डमरु […]

महेशवाणी
महेशवाणी
June 15, 2013

एक दिन जयबै हमसब नदिके किनार यो छुइट जायतै घर द्वार यो ना । । एक दिन यमराज भैया औथिन पकडिकै चारोदिश घिसिऔथिन । । २ । । तखन धिरे – धिरे पुछथिन हिसाब यो छुइट जायतै घर द्वार यो ना । । चौका चार कहाँरिया आयता एकटा पालकी बनयता । । २ ओइपर झाकी […]

महेशवाणी
महेशवाणी
June 15, 2013

गौरी दाई के अगुवा भेल मुदैया, ठगी लेलक रुपैया मन छल्, चित छल करितहुँ सुन्दर बर्, लय अयोला बुढबा जमैया, ठगी लेलक रुपैया गौरी दाई के ……………….. मन छल, चित छल करितहुँ धनीक घर्, लय अयोला गरीब जमैया, ठगी लेलक रुपैँया गौरी दाई के ……………….. gauri dai ke aguwa bhel mudaiyaa, Thagi lelaka rupaiyaa man […]

महेशवाणी
महेशवाणी
June 15, 2013

शिवजी सँ पुछे हिमाञ्चल के नारी , हिमाञ्चल के नारी बताद जोगिया कहाँ राखब गौरा प्यारी , बतादा जोगिया सबके तो देल भोला कोठा अँटारी सँ कोठा अँटारी अपना ल नै छओ टुटलो केबारी  बताद जोगिया कहाँ राखब गौरा प्यारी , बतादा जोगिया सबके तो देल भोला, खेत पथारी सँ खेत पथारी अपना ल नै छओ एकोधुर […]